सिद्ध मकरध्वज वटी-आयुर्वेद की सर्वश्रेष्ठ औषधि, 
सिद्ध मकरध्वज एक ऐसी सर्वश्रेष्ठ औषधि है, जिसके समान सर्व-रोग नाशिनी महौषध संसार में किसी भी चिकित्सा पद्दति में नहीं है | बड़े-बड़े डॉक्टर भी यह बात स्वीकार कर चुके है कि मकरध्वज के जोड़ की दवा दूसरी कोई है ही नहीं | इस औषधि के प्रयोग द्वारा अगणित प्राणी काल के मुहँ से बचते है | बहुत से डॉक्टर इसका इंजेक्शन देते तथा स्वतंत्र रूप से भी सेवन कराते देखे गये है |

इस बात से तो सभी लोग परिचित है कि ताकत बढ़ाने से प्रत्येक रोग में फायदा होता है | मकरध्वज के सेवन से मनुष्य की ताकत बहुत बढ़ जाती है | यह ह्रदय और स्नायुमंडल को यथाशीघ्र ही ताकतवर बनाता है | मकरध्वज के सेवन से शरीर का वजन निश्चित रूप से बढ़ता है | यह बल वीर्य, कांति आदि के लिए सर्वश्रेष्ठ दवा है | शीघ्रपतन के लिए भी बहुत लाभप्रद दवा है | नपुंसकता, नामर्दी के लिए भी मकरध्वज बहुत गुणकारी है | यह औषधि बच्चों से लेकर बूढों तक को एक जैसा फायदा पहुँचती है |

मरणासन्न रोगी को जब और किसी दवा से लाभ नहीं होता है, तब यही मकरध्वज और कस्तूरी उसके प्राण रक्षक होते है | मकरध्वज की महत्ता इसी से जानी जा सकती है कि जो मरते हुए रोगी को देने से उत्तम फायदा करता है, तो साधारण, साध्य और कष्टसाध्य रोगों में कितनी जल्दी लाभ कर सकता है | बहुत से धनी लोग इस औषधि का सेवन नियमित रूप से करते है | जिससे वे लोग जल्दी रोग ग्रस्त नहीं होते और सदा हष्ट पुष्ट रहते है |

शरीर में किसी कारणवश रक्त की कमी हो जाये तो मकरध्वज का सेवन उस हालत में अमृत के समान गुण करता है | किसी भी रोग के कारण शरीर में कमजोरी आ जाने पर मकरध्वज के सेवन से बहुत शीघ्र कमजोरी दूर हो जाती है | बालक -वृद्ध- युवा- स्त्री- पुरुष सब इसके सेवन से लाभ उठा सकते है |

इस औषधि के सेवन से शरीर की झुर्रियाँ, बालों का सफ़ेद होना आदि रोगों का नाश होता और आयु की वृद्धि भी होती है | जो इस रस का सेवन करते है वे अनेक स्त्रियों को रति द्वारा प्रसन्न कर सकते है | रति के अंत में इसके सेवन से शक्ति का ह्रास नहीं होता है | जो बराबर इसका सेवन करते है | उसके ऊपर स्थावर-जगम किसी भी प्रकार के विष का असर नहीं होता है |

यह विशेष कर राजयक्ष्मा और कफजन्य बिमारियों को बहुत शीघ्र दूर करता है तथा ह्रदय की दुर्बलता को नष्ट कर उसे ताकतवर बनाता है | रक्त प्रसादन करता है | शुक्र पुष्ट करता, रोगोंतपादक कीटाणुओं का नाश करता, विष-विकार को दूर करता है | उन्माद, अपस्मार(मृगी) रोग में भी लाभ करता है | यह रसायन बाजीकरण और योगवाही है |

सिद्ध मकरध्वज के लाभ : –
मकरध्वज में स्वर्ण का आंशिक संयोग रहता है, अतः यह उत्तेजक, ह्रदय के लिए बलदायक, रक्त दोष को दूर कर परिपुष्ट बनाने वाला और कीटाणु नाशक है |
शारीरिक कमजोरी में गुणकारी
रक्त की कमी दूर करता है
वीर्य की वृद्धि करता है |
शीघ्रपतनमें लाभ पहुंचाता है |
शरीर का वजन बढ़ाता है |
कमजोरी व बीमारी के कारण आई नामर्दी व नपुंसकता को दूर करता है |
मानसिक बल प्रदान कर उन्माद, मृगी जैसे रोगों में लाभ पहुँचाता है |
कफ जनित रोगों में लाभकारी |
मात्रा और अनुपात : –
2 से 3 रत्ती लेकर इसे पान के रस , शहद , घी , मिश्री , मक्खन, मलाई , दूध आदि के साथ तथा रोग के अनुसार इसकी मात्रा को कम या अधिक किया जा सकता है |

सिद्ध मकरध्वज सेवन विधि : –
सिद्ध मकरध्वज वटी को किसी अच्छे से पत्थर की खरल में डालकर 5 मिनट तक खूब महीन पीसना चाहिए | अच्छी तरह घुट जाने पर अब इसमें 6 माशा असली शहद मिलाकर पूरे 25 मिनट तक फिर घोटे, क्योंकि शहद में अच्छी तरह से मकरध्वज न घुटने से पूरा-पूरा लाभ नहीं करता है | इसके बाद जिस भी रोग में आप इसका प्रयोग करें, उस रोगनाशक औषधि का रस या चूर्ण मिलाकर रोगी को खिला देना चाहिए |

शरीर की कोई भी इन्द्रिय जब निर्बलता के कारण अपना काम करने में असमर्थ हो जाती है, अर्थात आँख से अच्छी तरह से देख न सकना, कान से न सुनना आदि ऐसी अवस्था में भी मकरध्वज बहुत लाभ करता है | क्योंकि यह विकृति वात और पित्त के दूषित होने के कारण होती है | इसमें मकरध्वज देने से उक्त दोषों की विकृति दूर हो परिशुद्ध रक्त द्वारा उन इन्द्रियों की नसें पुष्ट और सबल हो जाती है, जिससे वे इन्द्रियाँ अपना काम करने में समर्थ हो जाती है | धातु मिश्रित औषध का प्रभाव जैसे शरीर के अवयव अथवा रस-रक्तादिकों पर पड़ता है उसी प्रकार मन, बुद्धि, ज्ञानेन्द्रिय या कर्मेन्द्रिय पर भी पड़ता है|
अधिक शुक्र पतन या वातवाहिनी नाड़ियाँ की कमजोरी के कारण उत्पन्न हुई नपुंसकता नष्ट करने के लिए मकरध्वज का सेवन करने से विशेष लाभ होता है | 

सिद्ध मकरध्वज निर्माता Co. व Price :-

Baidyanath Co. –  Siddha Makardhwaj Special Tablet –  Price Rs 779.00

Dabut Co. –   Siddha Makardhwaj Special 10 Pills – Price Rs 665.00

Zandu Co. –  Siddha Makardhwaj Vati – 2 Gram  – Price  Rs 679.80

सिद्ध मकरध्वज आयुर्वेद का एक सर्वश्रेष्ठ रसायन है | वैसे तो इसका प्रयोग करना पूर्ण रूप से सुरक्षित है लेकिन किसी भी बीमारी की अवस्था में इसका उपयोग करते समय किसी अच्छे चिकित्सक से सलाह लेना ही उचित होगा | आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे Facebook पर अधिक से अधिक share करें |

Share This

Translate

Popular Posts

Recent Post

Hello!

Chat on WhatsApp