आपके हकलाने पर हंसते हैं लोग तो करें ...
हकलाना या वाणी दोष का इलाज
हकलाना , तुतलाना  रोग एक असभ्य रोग है इस रोग को ठीक करने के लिए कोई एलोपैथिक दवाई मोजूद नही है इसको ठीक करना मुश्किल काम नही है मगर थोड़ा लंबा ज़रूर है, इसके रोगीयो को हिमालयण बेरी जूस की 1-1 चम्मच दवा सुबह खाली पेट ओर रात को सोते समय 3 माह तक लेनी है
  1. बैद्यनाथ की संख पुष्पी 2-2 चमच खाना खाने के बाद दोनो टाइम लेनी है 
  2. Voees syrup मेडिकल से खरीद लें और बच्चों को एक चम्मच सुबह शाम दें और वयस्क ज्यादा उम्र के व्यक्ति को दो चम्मच सुबह शाम यह सिरप दें.
  3. मुलेठी चूर्ण 1/2 चम्मच शहद के साथ दिन में दो बार दें और खदिरारिष्ट सिरप पिए. योग में अनुलोम विलोमा और कपालभाति करे साथ ही शंख मुद्रा का अभ्यास करें। इसके अलावा शब्दों को बोलने की प्रैक्टिस करे. सिंहासन रोजाना करे.

इसके इलावा-
  1. आंवला – अगर रोगी नियमित रूप से 2 ताज़ा हरे आंवला रोजाना चबाकर खाये तो कुछ ही दिनों में उसके तोतलापन की शिकायत पूरी तरह से गायब हो जाती है, इसका प्रयोग महीनो तक करते रहना चाहिए जिससे यह रोग जड़ से समाप्त हो जाता है. इससे आवाज़ साफ़ हो जाती है. (हकलाने और तुतलाना के लिए इस प्रयोग 2-3 महीने तक रोजाना करे)।
  2. बादाम की गिरी और 7 कालीमिर्च दोनों को मिलाकर जरा सा पानी डालकर अच्छे से घिस लें व चटनी जैसा बना लें. अब इसमें पीसी बारीक़ मिश्री मिलाकर रोजाना सुबह के समय खाली पेट रहने पर चाटें, कुछ ही दिनों के प्रयोग से तोतलापन हकलाने का इलाज हो जायेगा.
  3. 2 कालीमिर्च मुंह में रख कर चूसते रहे, ऐसा आपको दिन में 2-3 बार रोजाना करना चाहिए इस प्रयोग को लम्बे समय तक करे, यह एक बेहतरीन आवाज़ साफ़ करने का उपाय है.
  4. 6 ग्राम सौंफ ले और इसे अच्छे से कूटकर लगभग 350 ग्राम पानी में अच्छे से उबाल लें. इसे तब तक उबाले जब तक की पानी उबलकर 100 ग्राम न रह जाये. फिर इस पानी में 55 ग्राम मिश्री और 255 ग्राम गाय का दूध मिलाकर रोजाना रात को सोने से पहले पिए. इस प्रयोग से हकलाकर बोलना दूर हो जाता है, यह एक रामबाण उपाय है.
  5. छुहारे तोतलापन के इलाज में बहुत ही असरकारी सिद्ध होते है, हकलाहट को ख़त्म करते है. इसके लिए आपको रोजाना 3 छुहारे दूध के साथ खाने है, इसे रात को करे तो ज्यादा अच्छा रहेगा क्युकी इस प्रयोग को करने के एक डेढ़ घंटे बाद तक पानी नहीं पीना होता है. इसके अलावा दिन में भी छुहारे खाते रहे, यह एक आयुर्वेदिक इलाज है.
  6. हकलाने से छुटकारा पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले एक कटोरे पानी में 7-8 बादाम डालकर छोड़ दें, फिर सुबह इनकी ऊपरी छाल को निकाल कर पीस लें व पेस्ट जैसा बनाकर 25-30 ग्राम मक्खन में बादाम के पेस्ट को मिलाकर रोजाना खाये. इस प्रयोग से मानसिक क्षमता भी बढ़ती है, आंखे तेज होती है साथ ही हकलाने, तुतलाना से छुटकारा भी मिलता है. 
  7. हकलाने तुतलाना का उपचार करने के लिए 7 दिन में 3 बार ब्राह्मी तेल को हल्का गर्म करके 15-20 मिनट तक सर पर अच्छे मालिश करे, तो 100% इससे हकलाने और तुतलाना में लाभ होता है, तुतलाने की दवा की तरह फायदा करता है.
  8. रोजाना सुबह खली पेट कालीमिर्च के कुछ दानो को मक्खन में मिलाकर खाने से भी तुतलाना बंद हो जाता है.
  9. तोतलापन दूर करने के उपाय में ए, ई, आई, ओ, यु, इन शब्दों को रोजाना एकांत में जाकर एक-एक कर के जोर जोर से मंत्र की तरह बोले.
  10. रोजाना सुबह और शाम जिस तरह शेर दहाड़ता है, ठीक उसी स्थिति में बैठकर अपने मुंह को- पहला : पूरी तरह से खोले जीभ को बाहर निकाले. आपको दाहड़ने की जरूरत नहीं है आप सिर्फ अपने मुंह को पूरी तरह खोल ले ताकि मुंह की सारी मांपेशियों का अच्छे से व्यायाम हो जाये यह तुतलाना हकलाने का योग है. दूसरा : ऐसे ही बैठे रहे वापस पुरे मुंह को खोले और अपनी जीभ को मोड़कर मुंह के अंदर ले जाए, आपसे जितना हो सके अंदर ले जाये और कुछ देर वैसे ही जीभ को रहने दे. इस तुतलाना के योग को दिन में आप कई बार कर सकते है. हकलाने जैसी स्थिति बिलकुल ठीक हो जाती है.
  11. हकलाने के रोग में अमलतास का गुदा व हरा धनिया दोनों को मिक्सर में पीसकर रस बनाये और 20-25 दिनों तक रोजाना पिए.
  12. तुतलाना की समस्या रहने पर हमेशा जब भी बोले तो आराम-आराम से एक-एक शब्द बोले
  13. प्रक्टिसे के लिए रोजाना books पड़ें, इससे हकलाहट की आदत ख़त्म होगी
  14. OM शब्द का रोजाना उच्चारण करे
  15. अपना होंसला बनाये रखे, लोग हँसते है तो हंसने दें उस पर ध्यान न दें
  16. आईने के सामने खड़े होकर बोलने का अभ्यास भी करे
इस तरह आप बताये गए इन सभी नुस्खों को नियमित रूप से करे, और जो पतंजलि में दवा और सिरप बताई है उसका भी सेवन करे. इसके अलावा अकेले जाकर तेज-तेज जल्दी से बोलने का अभ्यास भी करते रहे. अगर आप ऐसा ही सही तरीके से करते रहे तो जल्द ही आपको तोतलापन से छुटकारा मिल जायेगा

नोट – किसी भी आयुर्वेद औषधि का सेवन करने से पहले आयुर्वेद चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले | जिससे आपको हानि होने की सम्भावना नही रहेगी |

यदि आपको हमारा लेख पसंद आया हो तो हमे कमेन्ट करके अवश्य बताये | साथ ही किसी भी प्रकार के परामर्श के लिए आप अपना सवाल कमेन्ट बॉक्स में छोड़े हमारे विशेषज्ञों द्वारा जल्द ही आपको जवाब दिया जायेगा |

धन्यवाद !



Share This

Translate

Popular Posts

Recent Post

Hello!

Chat on WhatsApp